शर्मनाक: पुलिस अधिकारी बोला- मारने से पहले मुझे करने दो रेप, बलात्कार के बाद बच्ची की हत्या

Image: Universal News Timeline

हमारे देश में बलात्कार जैसा अपराध एक समस्या बन गया है। आये दिन कोई न कोई घटना मानवता और इंसानियत को शर्मसार कर देती है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले से जहाँ एक आठ वर्षीय बालिका के साथ बलात्कार कर उसकी जघन्य हत्या कर दी गई। इसी घटना की चार्जशीट में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। चार्जशीट के अनुसार बलात्कार और हत्या का मास्टरमाइंड सेवानिर्वित राजस्व अधिकारी संजी राम है, जो आंठो आरोपियों में से एक है।

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में आठ वर्षीय बालिका के साथ जनवरी में हुए सामूहिक दुष्कर्म और जघन्य हत्या की घटना में पुलिस ने आठ आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश कर दिया है।  चार्जशीट में बलात्कार और हत्या का मास्टरमाइंड सेवानिर्वित राजस्व अधिकारी संजी राम निकला है। उसके बेटे विशाल और भतीजे के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। बताते चले कि पुलिस ने केस की जांच से जुड़े विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया, सुरिंदर कुमार, प्रवेश कुमार, सहायक पुलिस इंस्पेक्टर और हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज को भी सबूत नष्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। चार्जशीट के अनुसार, बच्ची के पिता मोहम्मद यूसुफ ने 12 जनवरी को हीरानगर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उसने कहा था कि उनकी बच्ची दस जनवरी को जानवरों के लिए घास लाने नजदीक के जंगल गई थी, जहां से वापस नहीं लौटी।

पुलिस ने एफआईआर (FIR) दर्ज करने के बाद साजिशकर्ता सेवानिर्वित राजस्व अधिकारी संजी राम के नाबालिग भतीजे को गिरफ्तार कर लिया। 22 जनवरी को यह मामला क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर किया गया था। चार्जशीट के मुताबिक, बलात्कार और हत्या की साजिश रचने में राम का ही हाथ था। उसने बच्ची के अपहरण, दुष्कर्म और हत्या की योजना बनाई थी। उसने विशेष पुलिस अधिकारी खजूरिया और एक नाबालिग को अपनी साजिश में शामिल किया। दीपक अपने दोस्त विक्रम के साथ सात जनवरी की शाम बिटू मेडिकल स्टोर गया और इपिट्रिल दवा के दस टैबलेट खरीदे, जिसका नाम उसके चाचा ने सुझाया था।

चार्जशीट के मुताबिक, इसी शाम राम ने भतीजे को लड़की का अपहरण करने को कहा। लड़की अक्सर जंगल में आती थी। दस जनवरी को जब लड़की अपने जानवरों को खोज रही थी, उसी दौरान राम के भतीजे ने जानवरों के जंगल में होने की बात कही और अपने साथ थोड़ी दूर ले गया। फिर उसने लड़की की गर्दन पकड़कर जमीन पर गिरा दिया। पिटाई से बच्ची बेहोश हो गई तो नाबालिग ने उसका रेप किया। इसके बाद उसके साथी मन्नू ने भी रेप किया। फिर वे लड़की को मंदिर परिसर में ले गए, जहां उसे प्रार्थनाकक्ष में बंधक बनाकर रखा।

चार्जशीट के मुताबिक, 11 जनवरी को नाबालिग आरोपी ने एक अन्य आरोपी विशाल जंगोत्रा को लड़की के अपहरण के बारे में जानकारी दी। कहा कि अगर वह भी हवस बुझाना चाहता है तो मेरठ से जल्दी आ जाए। 12 जनवरी को विशाल जंगोत्रा रसना पहुंचा। सुबह करीब साढ़े आठ बजे आरोपी मंदिर गए और वहां भूखे पेट बंधक बनी लड़की को नशे की तीन गोली दी।

आरोप है कि जब राम ने कहा कि अब बच्ची की हत्या कर शव को ठिकाने लगाना होगा तो बच्ची के बलात्कार और हत्या की जांच में शामिल विशेष पुलिस अधिकारी खजूरिया ने कहा कि थोड़ा इंतजार करो, मैं भी बलात्कार करूंगा। सभी ने आठ वर्षीय लड़की का सामूहिक बलात्कार किया। फिर गला घोंटकर और सिर पर पत्थर से प्रहार कर उसकी हत्या कर दी और शव को जंगल में फेंक दिया। चार्जशीट के अनुसार, पुलिस टीम ने केस से बचाने के लिए रेप के आरोपी नाबालिग की मां से डेढ़ लाख रुपए घूस भी ली।

इस पूरी घटना से मन बेहद आहत है. समझ से परे है कि आखिर ऐसे हैवानों की इंसानियत कहाँ मर जाती है। इन्हें तनिक भी अफ़सोस नहीं होता है कि वे कौन सा कुकर्म करने जा रहे हैं। इन हैवानों को फांसी से कम सजा नहीं मिलनी चाहिए। एक बात इस घटना के बाद दोबारा से चर्चा में आ गयी है कि क्या बलात्कार के दोषियों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। कई सालों से यह सवाल चर्चा में है। लेकिन अभी तक न्यायालय और सरकारें इस पक्ष पर न्याय नहीं कर पाए हैं। जरुरत है एक कड़े कानून की जिससे लोगों के मन में डर रहे कि अगर वे ऐसा अपराध करते हैं तो उन्हें अपनी ज़िन्दगी से हाथ धोना पड़ सकता है। देखने वाली बात होगी कि सरकार ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए कौन से कदम उठती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Yogi Adityanath’s Government withdraws 7 years old rape case against former minister Chinmayanand

Asifa Bano rape and murder case: Tension between Hindu and Muslim